शेयर बाजार क्या है?What is share market in Hindi

9
59
share market kya hai
share market kya hai

शेयर बाजार क्या है?What is share market in Hindi

दोस्तों आज के इस लेख के मदद से हम what is share market in Hindi बारे में विस्तार पूर्वक समझने वाले हैं और जानने वाले हैं। आपने देखा होगा कि बहुत सारे लोग शेयर मार्केट के बारे में बात करते रहते हैं और आप वहीं रहते हैं आपको कुछ समझ में नहीं आता कि आखिर ये शेयर मार्केट होता क्या है।

तो हमने आपके इसी समस्या को दूर करने के लिए इस लेख में  शेयर मार्केट से जुड़ी सारी जानकारी को विस्तार से समझाने की कोशिश की है। और इस शेयर मार्केट के बारे में पूरे विस्तार से समझने के लिए आप से गुजारिश है कि आप इस पोस्ट को पूरे अंत तक ध्यान से पढ़ें तभी आपको यह पोस्ट अच्छे से समझ में आएगा। तो चलिए शुरू करते हैं इस लेख को बिना देरी के और जानते हैं what is share market in Hindi बारे में।

शेयर बाजार क्या है?What is share market in Hindi

दोस्तो अगर आप शेयर बाजार में नया  है तो मैं आज आपको इस लेख के मदद से  शेयर बाजार की दुनिया से वाकिफ और रूबरू कराऊंगा। दोस्तो सबसे पहले, आइए जानें कि आखिर शेयर बाजार क्या है गाइस शेयर बाजार उस  जगह को कहते हौ  जहां पर किसी भी तरह सर शेयर को खरीद और बिक्री की जाती  है। और मैं जानकारी के लिए  बता दु की शेयर उस कंपनी के किसी  स्वामित्व जैसे होते है और उसीकी किसी भी तरह के एक इकाई का अच्छे से प्रतिनिधित्व करता है जहां से आपने इसे खरीदा था यानी शेयर खरीदा था।

दोस्तो मैं आपको उदाहरण के माध्यम से समझा रहा हुके, मैन लीजिए कि आपने कुछ रुपये के लगभग  15 शेयर किसी कंपनी की खरीदे। और लगभग 250 प्रत्येक X कंपनी, (  हम X का इस्तेमाल किसी भी कंपनी को दरसाने के लिए कर रहे है )तो आप X कंपनी के शेयरधारक बन जाते हैं यानी उस शेयर का मालिक। इससे आप जब चाहें अपना X शेयर कभी भी बेच सकते हैं। गाइस शेयरों बाजार  में निवेश करने से आप अपने सारी तरह के ख्वाब, सपनों को बड़े ही आराम से पूरा कर सकते हैं जैसे उच्च शिक्षा, अपनी पसंद की बाइक, अपनी पसंद की  कार खरीदना, अच्छा जगह पे घर बनाना और ढेर सारे आदि।

यदि आप कम उम्र में ही किसी कंपनी या किसी तरह का निवेश करना शुरू करते हैं और दोस्तो उसे लंबे समय तक निवेशित करते रहते हैं, तो आप सोच नही सकते है कि रिटर्न की दर कितनी अधिक हो सकती है। जिस किसी भी समय आपको पैसे की जरूरत है, उसके आधार पर आप अपनी निवेश के रणनीति की योजना अपने मन के हिसाब से बना सकते हैं।

और आप किसी भी कंपनी के शेयर खरीदकर आप ये सोचिए कि आप किसी कंपनी में अपना पैसा लगा रहे हैं यानी निवेश कर रहे है । और जब आप किसी कंपनी में निवेश करते है अपना पैसा इस कंपनी में लगाते है तो जैसे-जैसे वो कंपनी बढ़ेगी जिसमे आपने पैसा लगया है , वैसे वैसे आपके शेयर की कीमत भी काफी अच्छे ढंग से बढ़ेगी।

 आप अपने शेयर को शेयर बाजार में बेचकर बहुत ज़्यादा मुनाफा कमा सकते हैं। और इसके कई कारक हैं जो किसी शेयर की कीमत को जल्दी ही प्रभावित करते हैं। शेयर बाजार में कभी भी किसी वक़्त भी किसी शेयर की कीमत बढ़ सकती है और जितना जल्दी से शेयर की कीमत बढ़ता है उतना जल्दी से शेयर का कीमत घटता भी है तो कभी भी कीमत गिर भी सकती है। लंबी समय का निवेश कीमत में गिरावट को बहुत अच्छे तरीके से  खत्म कर देती है ।

आपके मन मे यह भी सवाल पनप रहा होगा कि आखिर क्यों कोई कंपनी अपने कंपनी की शेयर जनता को बेचती है यह काफी अच्छा सवाल है किसी कंपनी को अपने विस्तार, अपने विकास और अपनी कंपनी की नई नई सामानों और अधिक मार्केट कैप्चर आदि जैसे कई तरह के लिए पूंजी या धन की बहुत आवश्यकता होती है और यही एक कारण से वह अपनी कंपनी की शेयर जनता को बेच कर के काफी ज्यादा मात्रा में धन जुटाती है। जिस प्रक्रिया से या तृका का उपयोग कर के कंपनी शेयर सभी के बीच जारी करती है उसे इनिशियल पब्लिक ऑफर शॉर्ट फ़ॉर्म में  बोले तो उसे (IPO) कहा जाता है। अब दोस्तो हम प्राइमरी मार्केट के तहत IPO के बारे में बहुत विस्तार से पढ़ेंगे। आपने हमेशा लोगों को बुल मार्केट और बियर मार्केट के बारे में किसी तरह का  बात करते सुना होगा।

क्या आपको पता है कि  बुल मार्केट वह है जहां शेयरों की कीमतें में बढ़ोतरी होते रहती हैं और गाइस भालू बाजार वह जगह है जहां कीमतें गिरावट यानी घटोत्तरी होते रहती हैं। और जहां पर ये सारी शेयर की खरीद-बिक्री होती है  NSE सरल भाषा मे कहे तो (नेशनल स्टॉक एक्सचेंज) और BSE को सरल भाषा मे कहे तो (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) होती है। ये भारत में दो बहुत ज्यादा प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज हैं और सेबी (भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड) द्वारा इसे विनियमित किया गया हैं। ब्रोकर स्टॉक एक्सचेंज और निवेशकों के बीच मध्यस्थ के रूप में बहुत बेहतरीन तरीका से यह कार्य करते हैं।

तो आप अगर  निवेश या ट्रेडिंग आसानी से शुरू करने के लिए, गाइस आपको एक अच्छी तरह से ब्रोकर के साथ खुद का एक डीमैट खाता और आपको ट्रेडिंग खाता भी खोलना होगा। और दोस्तो आप एक सरल प्रक्रिया के माध्यम से काफी आसानी से ऑनलाइन डीमैट खाता और बाकी के खाता भी खोल सकते हैं। अपने बैंक खाते को इन खातों से जोड़ने के बाद, आप बहुत आसान प्रक्रिया के मदद से अपनी निवेश यात्रा शुरू कर सकते हैं।

शेयर बाजार कितने प्रकार के होते है। ( how many types of share market )

दोस्तों हमने ऊपर जाना कि शेयर बाजार क्या है और चलिए जानते हैं कि शेयर बाजार के कितने प्रकार होते हैं। तो अब हम शेयर बाजार का अर्थ बहुत आसानी से समझते हैं, क्या आपको पता है कि  शेयर बाजार की मूल और मुख्य बातों का एक बड़ा प्रमुख पहलू यह भी है कि कोई भी ब्यक्ति लगभग दो बाजार खंडों में से एक पर काफी अच्छे तरिके से व्यापार कर सकता है। और दूसरे शब्दों में, मैं आपको बता दु की भारत में लगभग दो प्रकार के शेयर बाजार फिलहाल में हैं। ये

(1).  प्राथमिक शेयर बाजार  (primary share market)

गाइस क्या आपको पता है कि एक प्राथमिक शेयर बाजार एक ऐसा स्थान होता है जहां पर एक किसी तरह के नए कंपनी सबसे पहले धन जुटाने और अपना विकास के लक्ष्य के साथ बहुत आसानी से पंजीकृत हो जाती है और एक बहुत निश्चित मात्रा में अपने कंपनी का शेयर जारी करती है। प्राथमिक स्टॉक एक्सचेंज में सार्वजनिक एकदम खुला रूप से सूचीबद्ध होने का लक्ष्य  आमतौर पर धन जुटाना ही है। यह वह जगह है जहां एक नए या अच्छा कंपनी एक निश्चित मात्रा में  अपने किसी शेयर जारी करने और धन जुटाने और एकत्रित कर के अपने विकास  के लिए यह पर पंजीकृत हो जाती है। अगर कोई कंपनी पहली बार अपने कंपनी का शेयर बेचने का फैसला करती है, तो इसे बहुत अच्छे आरंभिक और पूरे तरह से सार्वजनिक पेशकश के रूप में भी जाना जाता है।

(2). द्वितीयक शेयर बाजार  (secondary share market)

गाइस अगर एक बार जब कंपनी की नई ढेर सारे प्रतिभूतियों को उस कंपनी के द्वारा किसी प्राथमिक बाजार में पहले ही बेच दिया जाता है, तो उन्हें हम अपने भाषा मे द्वितीयक शेयर बाजार में कारोबार भी किया जाता है। द्वितीयक बाजार   (secondary share market) में, निवेशकों को अपने पैसा को निवेश से बाहर निकलने और अपने किसी भी कितनी भी शेयरों को बेचने का काफी बड़ा अवसर मिलता है। द्वितीयक बाजार पर लेन-देन या निवेस में काफी ज्यादातर ऐसे ट्रेड आपको शामिल होते नजर आते है। जहां एक निवेशक मौजूदा अच्छे बाजार के  मूल्य पर एक काफी  अलग तरह सर निवेशक से शेयर खरीदना चुनता है।

दोनों पक्ष जो भी मूल्य निर्धारित करने के लिए वह एक दुसरे से अच्छे तरह से सहमत होते हैं या वो लोग प्रचलित बाजार मूल्य के आधार पर, एक निवेशक दूसरे से द्वितीयक बाजार में शेयर बहुत ही आसानी से खरीदेगा। आमतौर पर निवेशक इन लेन-देन और निवेश को एक अच्छा दलाल या अन्य कई सारे ऐसे मध्यस्थ के साथ इसी माध्यम से करते हैं जो कुछ इस प्रक्रिया को सुविधाजनक अच्छे से बना सकते हैं। ब्रोकर इन ट्रेडिंग अवसरों को विभिन्न विभिन्न योजनाओं में काफी चीज़ें प्रदान करते हैं।

 शेयर बाजार में निवेश कैसे करें ? (How to Invest in Share Market in hindi)

दोस्तों हमने ऊपर जान लिया कि शेयर मार्केट क्या है और शेयर मार्केट कितने प्रकार के होते हैं तो चलिए जानते हैं कि शेयर मार्केट में निवेश कैसे किया जाता है। शेयर बाजार में निवेश करना नए लोगो के लिए काफी ज्यादा  मुश्किल हो सकता है, खासकर अगर कोई अभी अभी शुरुआत कर रहा है। तो  हालाँकि, गाइस शेयर मार्केट का प्रक्रिया पहले के अपेक्षा अब बहुत ही आसान और सुव्यवस्थित हो चुका है कि शेयर बाजार में निवेश करने के लिए लगभग सभी उपकरण इलेक्ट्रॉनिक रूप से  अब उपलब्ध हैं। हम ने आपके लिए शेयर बाजार में अच्छे तरह से निवेश करने के अच्छे अच्छे तरीके के बारे में उत्सुक यहां काफी अधिक  निवेश प्रक्रिया है आप इसे ध्यान से पढ़े आप इन सभी को अपना कर के अच्छा निवेश और काफी मुनाफा पा सकते है।

1. प्राथमिक शेयर बाजार  (primary share market)  में निवेश कैसे करे।

दोस्तो प्राथमिक शेयर बाजार यानी   (primary share market) में निवेश के सारे निगमों के लिए एक अच्छा और बेहतरीन प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश के रूप में  ही इसे जानी जाने वाली प्रक्रिया के माध्यम से प्राथमिक शेयर बाजार में अपने किसी भी कंपनी का शेयरों की पेशकश करना बहुत ज्यादा विशिष्ट है। इसका साफ साफ मतलब यह है कि जब कोई प्राथमिक (primary share market) शेयर बाजार में अच्छे निवेश करना चुनता है, तो वे एक प्रारंभिक सार्वजनिक की  पेशकश या IPO के आधार से ऐसा कर सकते हैं।

प्राथमिक और द्वितीयक दोनों शेयर बाजारों में अपना पैसा निवेश करने के लिए, एक व्यापारी या किसी भी व्यक्ति के पास अपना खुद का डीमैट खाता होना बहुत ही आवश्यक है जो उनके कसी भी तरहके शेयरों की इलेक्ट्रॉनिक प्रतियां रखेगा। इसके अलावा अतिरिक्त, एक ट्रेडिंग खाता भी आपके पास होना बहुत महत्वपूर्ण है जो आपके सभी तरह के ऑनलाइन शेयर को खरीदने और बेचने में आपकी बहुत मदद करेगा। कुछ दुर्लभ या अतिआवश्यक मामलों में, व्यापारी के लिए सीधे अपने बैंक खाते से आवेदन करना एकदम संभव है।

आप इस बात को समझे कि आरंभिक सार्वजनिक पेशकश पर शेयर बाजार की सभी तरह के प्रतिक्रिया के आधार पर, एक व्यापारी या किसी व्यएक्ति को चुनिंदा शेयरों का आवंटन अच्छी तरह से किया जाएगा। एक बार जब किसी भी कंपनी को IPO आवेदन प्राप्त हो जाते हैं और कंपनी द्वारा अच्छे तरीके से गिना जाता है, तो उन कंपनियों के शेयरों को मांग और उनके उपलब्धता के आधार पर ही उनका आवंटित आराम से किया जाता है।

एक बेहतर प्रक्रिया के माध्यम से अपने नेट बैंकिंग,और ढेर सारे  खाते के माध्यम से IPO के लिए एक सुनिश्चित रूप से आवेदन करना काफी आसान हो जाता  है जिसे अवरुद्ध राशि (एएसबीए) द्वारा समर्थित आवेदन के रूप में अच्छे जाना जाता है। एएसबीए प्रक्रिया के अनुसार,  आप अगर कोई कंपनी को भेजे जाने के  बजाय आप अगर लगभग ₹1 लाख के शेयरों के लिए आवेदन करता है, तो इन फंडों को उनके बैंक खाते में अच्छी तरीके से ब्लॉक कर दिया जाएगा।

एक बार जब आप  उन कंपनियों का शेयरों का आवंटन प्राप्त कर लेते हैं, तो शेष उनके राशि जारी होने के साथ सटीक राशि आपके खाते में  डेबिट कर दी जाएगी। IPO को भेजे जाने वाले सभी आवेदनों के लिए इस तरीके का प्रोटोकॉल का पालन करना बहुत आवश्यक हो चुका है। व्यापारियों और आम आदमियों को किसी भी तरह के शेयर आवंटित होने के बाद, वे स्टॉक एक्सचेंज में काफी अच्छे तरह से सूचीबद्ध होते हैं, और आप लगभग एक सप्ताह के भीतर उनका व्यापार काफी बेहतरीन तरीके सर  शुरू कर सकते हैं।

2. द्वितीयक शेयर बाजार  (secondary share market) में निवेश ऐसे करे।

गाइस हम ने ऊपर जान लिया कि द्वितीयक बाजार क्या होता है तो चलिए अब जानते है कि  (secondary share market) में निवेश कैसे करते है।  द्वितीयक बाजार आमतौर पर वह बाजार होता है जिसके बारे में ढेर सारे व्यापारी और आम ब्यक्ति शेयर बाजार में ढेर सारे निवेश के बारे में बात कर रहे होते हैं। एक अच्छी शुरुआत के रूप में शेयर बाजारों में निवेश करने के बारे में काफी उत्सुक है यहां पर हमने आपके लिये ऐसा करने की दिशा में कुछ महत्वपूर्ण कदम हैं:

चरण 1: प्राथमिक बाजार के बहुत सी  समान, एक द्वितीयक बाजार यानी (secondary share market) के लिए भी  बहुत अति आवश्यक है कि आपके पास  खुद का अपना डीमैट और ट्रेडिंग खाता होना । द्वितीयक बाजार में किसी भी तरह के किसी भी कंपनी में  निवेश करने के लिए यह एक बहुत अच्छा  शुरुआती बिंदु  है। इन दोनों खातों को निर्बाध  अच्छी तरीके से लेनदेन के लिए पहले से मौजूद बैंक खाते से जोड़ा रहना चाहिए।

चरण 2: अगला कदम उस ट्रेडिंग खाते में सबसे पहले आपको लॉग इन करना है। फिर आगे बढ़ें और उन  कंपनियों के शेयरों को अच्छे से जांच कर चुनें जिन्हें आप बेचना या खरीदना या उस मे निवेश करना चाहते हैं। और फिर आप सुनिश्चित करें कि आपके खाते में उतना आवश्यक राशि है जो आपको आपके पसंद के शेयर खरीदने में काफी मदद कर सकती है। वैकल्पिक रूप से, यदि आप कुछ शेयर बेचना चाहते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आपके पास बेचने से पहले शेयरों की सही संख्या आपके पास  है।

चरण 3: इसके बाद, वह एक अच्छी कीमत तय करें जिस पर आप  उस किसी कंपनी की शेयर खरीदना चाहते हैं और इसे आप अपने मन मुताबिक  बेच भी सकते  हैं। खरीदार या विक्रेता या हम आप जैसे लोग के उस अनुरोध के प्रति प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा करें।

चरण 4: धन/शेयरों को अच्छे से स्थानांतरित करके अपना शेयर बाजार के मदद से निवेश को आसानी से लेनदेन पूरा करें और आपको किसी भी तरह के धन/शेयर प्राप्त करना होंगे।

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया गया है उसी तरह, शेयर बाजारों में आप इन सभी निवेश करने के तरीके बहुत सीधे और सरल के साथ साथ बहुत आसान भी हैं। सुनिश्चित करें कि आप उस समय के प्रति सचेत हैं जिसके लिए आप निवेशित रहना चाहते हैं  आप किसी भी कंपनी में निवेश करने के पहले आप जांच पड़ताल कर ने के बाद उस कंपनी पे निवेश कर और अपने निवेश से आप जिन वित्तीय लक्ष्यों को आसानी से प्राप्त करना चाहते हैं

शेयर बाजार में क्या कारोबार होता है ?

हम उन प्रमुख वित्तीय साधनों को अच्छे से संबोधित किए बिना आप इन शेयर बाजार की बेहतरिन मूल बातों पर चर्चा उतना अच्छा से नहीं कर सकते हैं, जिन पर इस तरह का  कारोबार किया जाता है। स्टॉक एक्सचेंज में कारोबार करने वाले लगभग सभी वित्तीय साधनों की लगभग चार श्रेणियां हैं। और वे है बॉन्ड, डेरिवेटिव, शेयर,  और म्यूचुअल फंड हैं। वे सभी कुछ  इस प्रकार हैं:

1. शेयर एक किसी कंपनी का शेयर एक निगम में उसके इक्विटी स्वामित्व को बेहतरीन तरीके से दर्शाने वाली एक महत्वपूर्ण इकाई है जो एक वित्तीय परिसंपत्ति के रूप में शेयर बाजार में  मौजूद है जो अर्जित  की हुई किसी भी तरह लाभ के लिए समान तरह से वितरण प्रदान करता है। इसलिए, जब आप किसी कंपनी का शेयर खरीदते हैं, तो आप उस कंपनी में खुद का हिस्से खरीदते और आप उतना शेयर के मालिक होते  हैं जिसके शेयर आपने खरीदे हैं।

इसका मतलब यह साफ  है कि अगर कंपनी  को लाभ होती है तो समय के साथ आपका भी हो जाती है, तो शेयरधारकों को लाभांश के साथ पुरस्कृत और अच्छा रिटर्न्स  भी मिल जाता है। व्यापारी अक्सर शेयरों को उसके अच्छे से अच्छे कीमत पर बेचने का विकल्प चुनते हैं, जिससे उन्होंने उन्हें फायदे के लिए खरीदा था।

2. बांड (Bond ) एक कंपनी को धन की आवश्यकता होती है ताकि वे अपने नए नए परियोजनाएं पे ध्यान दे कर के शुरू कर सकें। वे अपने निवेशकों को अपनी परियोजनाओं पर  बहुत बेहतरीन तृका से अर्जित राजस्व से लाभांश का काफी  भुगतान करते हैं। संचालन जैसे और सारे अन्य कंपनी प्रक्रियाओं के लिए पूंजी जुटाने का एक तरीका बांड के माध्यम से भी होता है। जब कोई कंपनी बैंक से पैसे लेती है  उधार तो वह कंपनी लेने का विकल्प चुनती है, तो वे एक बैंक से  ऋण लेते हैं जिसे वे समय-समय पर ब्याज के रूप में  भुगतान के माध्यम से चुकाते हैं।

दोस्तो इसी तरह, जब कोई कंपनी  विभिन्न तरह के अलग अलग  निवेशकों से काफी धन उधार लेने का विकल्प चुनती है, तो इसी तरीका को हम सब बांड के रूप में जाना जाता है, जिसका भुगतान समय  समय पर ब्याज भुगतान  के माध्यम से धीरे धीरे भी किया जाता है। बांड कैसे काम करता है, इसकी अच्छे से व्याख्या के रूप में हमने आपके लिए निम्नलिखित उदाहरण को दिया है। गाइस आप कल्पना कीजिए कि आपका एक लक्ष्य एक ऐसी परियोजना को शुरू करना है जो दो साल के समय मे आपके लिए काफी अच्छा पैसा कमाना शुरू कर देगी।

इस तरह से परियोजना को शुरू करने के लिए, आपको शुरुआत करने के लिए कुछ प्रारंभिक पैसा  की थोड़ी बहुत आवश्यकता होगी। दोस्तो आप  मान लीजिए कि आप किसी मित्र से ऋण  के रूप में उधर जैसे आवश्यक धनराशि आप प्राप्त करते हैं और ऋण की अच्छे रसीद को कहते हुए एक बही में यह लिखते हैं कि आप पर उन पर पूरे ₹2 लाख का बकाया है, जिसे आप पांच वर्षों में 5% प्रति वर्ष की ब्याज दर के साथ उन्हें चुकाएंगे।

और आप यह भी मान लीजिए कि आपके मित्र के पास अब यह रसीद हो चुका है। इसका साफ साफ यह मतलब  है कि उन्होंने आपकी कंपनी को पैसे तकरीबन 2 लाख रुपये उधार देकर अभी-अभी एक बांड खरीदा है। चूंकि आपने मूल राशि का भुगतान  लगभग 5% ब्याज पर करने का वादा किया है, इसलिए आप ऐसा करते हैं और अंत में पांचवां वर्ष समाप्त होने तक अपने मूलधन का भुगतान काफी आएसनी से समाप्त कर देते हैं।

3. म्युचुअल फंड के शेयर बाजार की मुख्य से मुख्य बातों का एक प्रमुख वित्तीय साधन म्यूचुअल फन्ड का ही एक तरह का निवेश है। क्या आप जानते है कि म्यूचुअल फंड ऐसे निवेश हैं जो आपको शेयर बाजार में परोक्ष और बिना डरे रूप से निवेश करने की अनुमति देते हैं। आप कुछ नाम रखने के लिए इक्विटी इनका उपयोग कर सकते है जैसे , डेट, या हाइब्रिड फंड जैसे कई सारे  विभिन्न  विभिन्न तरह के वित्तीय साधनों के लिए म्यूचुअल फंड ढूंढ सकते हैं।

 म्यूचुअल फंड उन सभी निवेशकों और बेपरियो से पैसा इकट्ठा करके उन पैसों को अच्छे कंपनी में निवेश का काम करते हैं जो उन्हें फंड करते हैं। यह कुल राशि तब वित्तीय साधनों और अच्छी रेतुर्न्स देने वाले कंपनी में निवेश की जाती है। म्युचुअल फंड को पेशेवर रूप से एक फंड मैनेजर द्वारा नियंत्रित किया जाता है। प्रत्येक म्यूचुअल फंड  एक अच्छे योजना एक शेयर के समान एक निश्चित मूल्य की इकाइयाँ जारी करती है।

जब आप कुछ इस तरह के फंड में निवेश करते हैं, तो आप उस म्यूचुअल फंड स्कीम में कुछ यूनिट के शेयर होल्डर बन जाते हैं। जब उस म्यूचुअल फंड योजना का हिस्सा होने वाले उन सभी उपकरण समय के साथ बहुत अद्धिक राजस्व अर्जित करते हैं, तो यूनिट-धारक को वह राजस्व बहुत हि आसानी से प्राप्त होता है जो फंड के शुद्ध से सुद्ध परिसंपत्ति मूल्य के रूप में या लाभांश भुगतान के रूप में उनको अच्छे से परिलक्षित होता है।

4. डेरिवेटिव्स शेयर बाजार में बहुत अधिक सूचीबद्ध शेयरों के बाजार मूल्य में काफी उतार-चढ़ाव जारी है। इसे एक विशेष कीमत पर किसी शेयर का मूल्य तय करना बहुत ही मुश्किल है। यह वह जगह है जहां डेरिवेटिव सीधा तस्वीर में प्रवेश करते हैं। आपको सायद ही मालूम होगा कि डेरिवेटिव ऐसे उपकरण हैं जो आपको आज आपके खुद के द्वारा तय की गई अच्छी कीमत पर व्यापार करने की अच्छी तरह से अनुमति देते हैं। सीधे शब्दों में अगर कहा जाए तो, आप उनके साथ एक समझौता करते हैं जहां आप एक निश्चित से निश्चित कीमत पर शेयर या कोई अन्य साधन बेचने या खरीदने का विकल्प अपने मन मुताबिक चुनते हैं।हैं।दोस्तों कुछ इसी तरीका से शेयर मार्केट में कारोबार होता है आशा करता हु की आप अच्छे से समझ गए होंगे।

    [ Conclusion,निष्कर्ष ]

दोस्तो आशा करता हूं कि आप को मेरा यह लेख what is share market in Hindi आपको बेहद पसंद आया होगा और आप इस लेकर मदद से शेयर मार्केट के बारे में संपूर्ण जानकारी ले चुके होंगे। और मुझे आप पर पूर्ण विश्वास है कि आप शेयर मार्केट के बारे में जानने के बाद आप यह जरूर सोच रहे होंगे कि शेयर मार्केट में कैसे निवेश करते हैं तो हमने आपको यह सब के बारे में भी ऊपर अच्छे से विस्तार पूर्वक बताया है। हम लोगों ने आपके लिए सरल से सरल भाषा में शेयर मार्केट के सभी जानकारी को समझाने की कोशिश की है आपको पोस्ट कैसा लगा आप कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं क्योंकि हम आपके लिए ऐसे ऐसे पोस्ट रोजाना लाते रहते

म्यूचुअल फंड क्या है ?

9 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here