IPO क्या होता है और IPO कैसे काम करता है

4
79
ipo kya hai
ipo kya hai

IPO क्या होता है और IPO कैसे काम करता है, ( What is IPO and how does IPO work )

दोस्तों आज के इस लेख में हम IPO क्या होता है और IPO कैसे काम करता है,  ( What is IPO and how does IPO work ) बारे में संपूर्ण जानकारी अर्जित करने वाले हैं। बहुत सारे कंपनी अपने IPO के लिए अधिक प्रयास करती हैं।

 और वह IPO में सक्षम भी पाती है उससे पहले की कुल किसी कंपनी को IPO में शामिल किया जाए उसे से पहले उस कंपनी को यूनिकॉर्न में लिस्टेड करना पड़ता है तब उसके बाद किसी कंपनी का आईपीओ होता है। आप लोग अभी सोच रहे होंगे कि इसमें कुछ तो आईपीओ के बारे में बताया ही नहीं और सीधा शुरू कर दिया किसी टॉपिक को उठाकर। आप चिंता न करे जब आप किसी कंपनी के बारे में सुनते हैं किस कंपनी का IPO होने वाला है।

 तो आपके मन में यह सवाल जरूर आता होगा आखिर IPO है क्या और IPO कैसे काम करता है तो हम लोगों ने आपके इस समस्या को दूर करने के लिए इस लेख में IPO से जुड़ी सभी जानकारी कौन लिखा है। गाइस IPO के बारे में संपूर्ण जानकारी अर्जित करने के लिए कृपया आप इस पोस्ट को ध्यान से पूरे अंत तक पढ़े तभी आप IPO से जुड़ी सभी जानकारी को अच्छे से प्राप्त कर पाएंगे। तो चलिए शुरू करते हैं इसलिए को और जानते हैं इसके बारे में

IPO क्या होता है ? (What is IPO in hindi )

दोस्तो क्या आपको मालूम है कि जब एक निजी यानी ( private ) कंपनी किसी तरह से सार्वजनिक होने का फैसला करती है, तो वह ढेर सारे निवेशकों और ब्यपरियो को अपने कंपनियों शेयरों की पेशकश एक प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश के तरह  (IPO) के माध्यम से सबके बीच जरी करती है। यह किसी कंपनी द्वारा जनता, के संस्थागत बड़े से छोटे  निवेशकों , और HNI को शेयरों की पहली बिक्री है। 

आपको शायद ही मालूम होगा कि एक IPO बाजार को बेहतर प्राथमिक बाजार के रूप में बेहतरीन ढंग से वर्गीकृत किया जाता है जहां फर्म काफी लंबी अवधि की पूंजी का बेहतरीन ढंग से उपयोग करना चाहते हैं। गाइस यह  द्वितीयक बाजार के बिलकुल ही विपरीत है जहां पर ढेर सारे  शेयर निवेशक किसी भी तरह के समुदाय के भीतर हाथों का आदान-प्रदान अच्छे से करते हैं और काफी सारी कंपनियां अपनी अल्पकालिक पूंजी आवश्यकताओं को पूरा करती हैं उनका बड़ा मकसद यही होता यही होता है । 

हम ने ऊपर बात किया कि IPO, संक्षेप में, वह प्रक्रिया है जिसके द्वारा एक निजी यानी ( private ) कंपनी सभी के बीच पूर्ण रूप सबल सार्वजनिक हो जाती है और जिस पर कंपनी दर्ज होती है उसका नाम स्टॉक एक्सचेंज में  आराम से हसूचीबद्ध हो जाता है। ऐसी कई सारे कंपनियों का बेहतरीन ढंग से प्रबंधन अपने व्यापार मॉडल के प्रति आश्वस्त है और उम्मीद कर रहा है कि IPO खुदरा और अन्य कई सारे रणनीतिक और निवेशकों के हित को बहती उजागर करेगा और नियामक की कठोरता से इसे गुजरने के लिए भी यह तैयार है। 

गाइस इससे पहले कि हम चर्चा करें कि IPO बेहतर ढ़ंग से कैसे काम करता है, तो गाइस आइए जानते हैं कि, कंपनी IPO के लिए क्या योग्य बनाती है। दोस्तो   नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) या और एक रहा बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) में काफी सूचीबद्ध होने के लिए, एक कंपनी के पास आमतौर पर न्यूनतम पेड-अप पूंजी लगभग 10 करोड़ रुपये होनी चाहिए। इसके अलावा, कोई भी इश्यू के बाद का बाजार पूंजीकरण 25 करोड़ रुपये से कम नहीं होना चाहिए।

शेयर बाजार क्या है

IPO का इतिहास  ( History of IPO )

दोस्तो IPO का इतिहास काफी उच्च प्रारंभिक सार्वजनिक को बेहतरीन तरह से पेशकश (IPO) शब्द लगभग कई दशकों से वॉल स्ट्रीट और छोटे बड़े निवेशकों  के बीच काफी उच्च चर्चा का विषय रहा है। गाइस क्या आपको पता है कि आम जनता को डच ईस्ट इंडिया कंपनी के काफी शेयरों की अच्छे से पेशकश करके  उनका पहला आधुनिक बेहतरीन तरह से IPO आयोजित करने का लगभग पूरा श्रेय डचों को जाता है। 

उसी समय से,  लगभग सभी सार्वजनिक अलग अलग तरह के शेयर स्वामित्व  को अच्छे से जारी करने के माध्यम से उनके सार्वजनिक निवेशकों से किसी तरह पूंजी जुटाने के लिए बहुत सारी कंपनियों के लिए IPO का उपयोग बड़े आराम से किया जाता है। कई वर्षों से, IPO को अच्छे से जारी करने में अपट्रेंड ( Uptrend )और दूसरा है  डाउनट्रेंड (Downtrend) के लिए अच्छे से जाने जाते हैं। व्यक्तिगत किसी तरह के क्षेत्र भी नवाचार और विभिन्न  अलग अलग अन्य  सारे आर्थिक कारकों के कारण जारी करने में अपट्रेंड और डाउनट्रेंड का  अनुभव अच्छे से करते हैं। 

क्या आप जानते है कि डॉट-कॉम बूम की ऊंचाई पर टेक IPO लगभग कई गुना बढ़ गए । गाइस क्योंकि बिना राजस्व के छोटे बड़े  स्टार्टअप खुद को शेयर बाजार में सूचीबद्ध और लिस्ट करने के लिए दौड़ पड़े है । लगभग  2008 के काफी तरह के वित्तीय संकट के परिणामस्वरूप कम से कम  IPO के साथ एक कई वर्ष हो गया। फिर दोस्तो लगभग 2008 के सभि तरह के वित्तीय संकट के बाद काफी मंदी के बाद, IPO रुक गया, और फिर कुछ वर्षों के बाद, IPO का एक नई लिस्टिंग दुर्लभ थी। 

क्या आप को पता है कि अभी हाल ही में, IPO पर काफी अधिकांश चर्चा तथाकथित और ढेर आरे यूनिकॉर्न-स्टार्टअप कंपनियों पर बहुत अधिक ध्यान केंद्रित करने के लिए वहाँ से चली गई है जो लगभग $ 1 बिलियन से अधिक के निजी (private) मूल्यांकन तकअच्छे से पहुंच गई हैं। निवेशक और कई सारे मीडिया इन कंपनियों और IPO के बेहतर माध्यम से  कई सारे सार्वजनिक होने या निजी रहने के उनके मन के फैसले पर भारी अटकलें लगाते हैं।

Intraday trading in hindi

IPO कैसे काम करती है। ( How does IPO work in hindi )

दोस्तो क्या आपको पता है कि IPO से पहले, एक कंपनी को निजी यानी (private )माना जाता है। गाइस एक पूर्व-IPO यानी निजी कंपनी के बेहतरीन  रूप में, एक व्यवसाय अपेक्षाकृत कम से कम संख्या में काफी ज्यादा निवेशकों और शेयरधारकों के साथ ही यह विकसित हुआ है, जिसमें लगभग परिवार, संस्थापक, और उसके दोस्तों जैसे बहुत से शुरुआती निवेशकों और व्यपारियो के साथ-साथ बेहतरीन  व्यावसायिक निवेशक जैसे उद्यम की पूंजीपति या एंजेल निवेशक ( Angel investors) भी शामिल हैं। 

गाइस IPO एक कंपनी के लिए एक बहुत बड़ा कदम होता है क्योंकि यह कंपनियों को काफी  सारा पैसा जुटाने और एकत्रित करने की सुविधा प्रदान करता है। इससे कंपनी को बढ़ने और विस्तार करने के साथ साथ विकाश करने की काफी अधिक क्षमता मिलती है। बढ़ी हुई कोम्पनिओ की पारदर्शिता और उसके शेयर लिस्टिंग की बेहतर विश्वसनीयता भी काफी उधार ली गई धनराशि की बेहतरीन तरीके से मांग करते समय कुछ बेहतर शर्तें  को प्राप्त करने में मदद करने का भी एक कारक हो सकती है। 

जब कोई कंपनी अपनी विकास और विस्तार प्रक्रिया में एक ऐसे चरण में पहुंचती है तो जहां उसे पूर्ण विश्वास होता है कि वह काफी अद्धिक सार्वजनिक शेयरधारकों और निवेशकों को अच्छा खासा लाभ और उसके जिम्मेदारियों के साथ-साथ एसईसी के सभी नियमों की कठोरता के लिए काफी अधिक मात्रा में पर्याप्त परिपक्व है, तो वह एक बेहतरीन सार्वजनिक होने में अपनी रुचि का  अधिक विज्ञापन करना शुरू कर देगी। 

Intraday trading in hindi

दोस्तो आमतौर पर, किसी कंपनी के विकास का यह चरण तब होगा जब कोई कंपनी लगभग 1 बिलियन $ तकरीबन (अभी फिलहाल के रेट के हिसाब से 74,45,60,00,000.00 रुपये ) बिलियन के निजी मूल्यांकन तक जब पहुंच गई है, और दोस्तो जब कोई कंपनी 1 बिलियन $ के आंकड़े को पर कर देती है तब उसे  यूनिकॉर्न में स्थिति भी कहा जाता है यह बात क्या आपको मालूम था। 

हालांकि, दोस्तो जब को मजबूत मूल वाले सिद्धांतों और उनके सिद्ध लाभप्रदता और बेहतरीन  क्षमता वाले विभिन्न अलग अलग  मूल्यांकनों पर काफी तरह के निजी कंपनियां भी IPO के लिए बहुत काफी अर्हता प्राप्त कर सकती हैं, जो अभी बाजार की सभी प्रतिस्पर्धा और लिस्टिंग की लगभग सारी आवश्यकताओं को अच्छे से पूरा करने की उनकी क्षमता पर पूर्ण रूप से निर्भर करता है। 

किसी कंपनी के IPO के सभी शेयरों की कीमत अंडरराइटिंग की सभी ड्यू डिलिजेंस के जरिए बेहतरीन तरीके से तय की जाती है। जब किसी तरह के कंपनी जब सार्वजनिक हो जाती है, तो पहले एक स्वामित्व वाली एक निजी शेयर बेहतर स्वामित्व और सार्वजनिक स्वामित्व में अधिक परिवर्तित हो जाती है, और काफी मौजूदा और निजी शेयरधारकों और निवेशकों के शेयर सार्वजनिक व्यापार मूल्य के एकदम लायक हो जाते हैं।

दोस्तो शेयर हिसिदारी में बहुत निजी से काफी सार्वजनिक शेयर का स्वामित्व के लिए काफी विशेष प्रावधान भी अच्छे तरह से शामिल हो सकते हैं। आम तौर पर, उनके सभी निजी से सार्वजनिक और बेहतर  रूप से संक्रमण निजी शेयरधारक और निवेशकों के लिए काफी एक महत्वपूर्ण समय होता है जब वे उस रिटर्न को अच्छे से भुनाते हैं और अर्जित करते हैं जिसकी वे बहुत उम्मीद कर रहे थे। 

दोस्तो निजी शेयरधारक और निवेशकों को सार्वजनिक बाजार में अपने लगभग सभी शेयरों पर कब्जा कर सकते हैं या उनके लाभ के लिए एक अच्छा हिस्सा या उन सभी को अच्छे से बेच सकते हैं। इस बीच, बहुत अधिक सार्वजनिक बाजार लाखों तरह के निवेशकों के लिए बेहतरीन कंपनी में शेयर खरीदने और कंपनी के शेयरधारकों और निवेशकों की इक्विटी में अपनी पूंजी का काफी योगदान करने का एक बहुत बड़ा अवसर खोलता है। जनता में कोई सारे तरह के भी व्यक्ति या संस्थागत निवेशक और शेयरधारकों से होता है जो कंपनी में काफी निवेश करने में रुचि रखता है। 

सारे चीज़ों को अच्छे से मिलाकर, सभी कंपनी द्वारा बेचे जाने वाले उनके शेयरों की संख्या और वो अपने शेयर को अच्छी कीमत पर शेयर बेचे जाते हैं, वे अच्छे कंपनी के नए शेयरधारकों और निवेशकों के इक्विटी मूल्य के लिए काफी उत्पादक कारक हैं। 

सभी तरह के शेयरधारकों और निवेशकों  की बेहतर  इक्विटी अभी भी शेयरधारकों और निवेशकों के बेहतर स्वामित्व वाले शेयरों का प्रतिनिधित्व करती है, जब यह निजी और सार्वजनिक दोनों होती है, लेकिन IPO के साथ शेयरधारकों और निवेशकों की इक्विटी प्राथमिक जारी करने से नकदी के साथ काफी बढ़ जाती है।

IPO के फायदे क्या क्या है ? ( Advantage of IPO in hindi )

दोस्तों हमने ऊपर इस पोस्ट में पड़ा कि IPO क्या होता है और IPO कैसे काम करता है और अब हम जाने वाले हैं कि IPO के क्या लाभ होते हैं तो चलिए जानते हैं कि आईपीओ के क्या लाभ होते हैं। गाइस  IPO  कंपनी के बहुत सारे प्रमुख लाभों में से एक यह है कि कंपनी को बहुत सारे पूंजी को जुटाने और एकत्रित के लिए संपूर्ण निवेश और शेयरधारक करने वाली जनता से काफी सारे निवेश तक पहुंच प्राप्त होती है। गाइस यह काफी आसान अधिग्रहण सौदों जैसे  (शेयर रूपांतरण) की बहुत सारे सुविधा देता है।

दोस्तो बहुत सारे कंपनी के अधिक जोखिम, और उसके प्रतिष्ठा और लगभग अभी तरह के सार्वजनिक छवि को बेहतरीन ढंग से बढ़ाता है, जिससे अभी भी बहुत सारी कंपनी की बिक्री और  उनके अधिक मुनाफे में मदद मिल सकती है। आवश्यक त्रैमासिक रिपोर्टिंग और एकत्रित के साथ आने वाली बढ़ी हुई पारदर्शिता और काफी सारी आमतौर पर एक अच्छी सी कंपनी को एक निजी तरह के कंपनी की तुलना में  बहुत अधिक अनुकूल ऋण उधार  के शर्तों को प्राप्त करने में बहुत अधिक  मदद कर सकती है।

What is mutual fund in hindi

पहला प्रस्तावक लाभ ( first mover advantage )

यह विशेष रूप से सच है जब बड़ी कंपनियां और  कामयाब  कंपनियां आईपीओ की घोषणा करती हैं। उस समय आपको कंपनी के शेयर काफी कम कीमत में खरीदने का मौका मिलता है। जो की stock market मे पैसा  बनाने का मौका होता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि एक बार जब कंपनी के शेयर द्वितीयक बाजार में पहुंच जाते हैं, तो शेयर की कीमत काफी तेजी से बढ़ सकती है। इसलिए यदि  आप कंपनियां और  कामयाब  कंपनियां का शेयर कम कीमत में खरीदने लेते है तो आप बाद मे उस शेयर को बेच कर काफी पैसा कम सकते है। 

 उच्च रिटर्न (high profit) 

IPO से आपको फायदा हो सकता है। कंपनी के मजबूत फंडामेंटल का मतलब है कि इसके बड़े होने की अच्छी संभावनाएं हैं। यह आपके लिए बहुत अधिक फायदेमंद भी हो सकता है। आपके पास लंबी अवधि में काफी अच्छा रिटर्न अर्जित करने का मौका है।

What is mutual fund in hindi

  [ Conclusion,निष्कर्ष ]

दोस्तों आशा करता हूं कि आपको मेरा यह लेख IPO क्या होता है और IPO कैसे काम करता है,  ( What is IPO and how does IPO work ) आपको बेहद पसंद आया होगा और आप इस लेख के  मदद से वह सारे चीजों के बारे में अच्छे से जान चुके होंगे जिसके लिए आप हमारे वेबसाइट पर आए थे। हमने इस लेख में IPO के बारे में सरल से सरल भाषा का उपयोग करके आप को IPO के बारे में अच्छे से समझाने की कोशिश की है।

गाइस मेरा आप पे सम्पूर्ण बिस्वास है कि आप IPO के बारे में अच्छे से समझ चुके होंगे। अगर दोस्तों आपको इस पोस्ट में कहीं भी कोई भी किसी भी तरह को पढ़ने में या किसी भी चीज में कोई भी दिक्कत हुई होगी तो आप हमारे कमेंट बॉक्स में बेझिझक कुछ भी सवाल पूछ सकते हैं हमारी समूह आपकी मैसेज के रिप्लाई जरूर देगी और आप यह भी कमेंट में जरूर बताएं कि यह पोस्ट आपको कैसा लगा ताकि हम आपके लिए दूसरे पोस्ट ऐसे ही लाते रहे।

शेयर बाजार क्या है

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here